Video Mein Colour Correction Aur Colour Grading

Jab aap video shoot karate hain to use professional look den eke liye colour correction aur colour grading ki zaroorat padti hai. Kuchh log is process ke liye donon (colour correction aur colour grading) term ka istemaal karte hain. Lekin sach to ye hai ki ye donon alag alag process hain. To aaiye jaante hain ki video/film/photography mein hone wale colour correction aur colour grading mein buniyaadi farq kya hai?

Photo1: Jaisa ki photo click kiya gaya tha- flat aur raw. Aap ismein low contrast aur saturation dekh sakte hain.

Colour correction us process ko kahte hain, jab ham kisi film ya video ke sare shots ko ka white balance, contrast aur tone ek jaisa karte hain taaki koi bhi scene alag na dikhe. Aisa na lage ki ye saare shots alag alag source se lekar ek saath insert kiye gaye hon. Colour correction ke dwara shots ko zyada se zyada natural/real banaane ki koshish ki jati hai. Kyonki alag alag camera aur alag alag logon dwara shoot karne ki wajah se picture hamesha alag hoti hai, jo ki dekhne par ek jaisi maloom nahi padti. Ham yoon bhi kah sakte hain ki colour correction, colour grading karne ki taiyaari hai.

GMAX_STUDIOS-2713-2

Photo2: Colour correction ke baad footage. Khoobsurat contrast aur saturation dekha ja sakta hai.

Colour grading, colour correction ke baad kiya jata hai. Colour grading yaani wo process, jis mein footage ko khaas tone diya jata hai. Tone buniyaadi roop se video ke theme ko support karta hai. Taaki ham jo baat kahna chah rahe hain wo aur bhi asardaar ho jaye. Colour grading ek creative process hai, jahan creator ye faisla leta hai ki film kis tone mein zyada khoobsurat lagegi. Itna hi nahi, film ke kisi khaas scene mein kisi khaas mood ko darshane ke liye khaas tone ka istemaal hota hai. Jismein highlights, mid-tones aur shadows ka istemaal bhi kiya jata hai.

GMAX_STUDIOS-2713-3

Photo3: Is mein colour grading ho chuka hai. Footage ke is hisse mein protagonist apni mari hui biwi ko yaad kar raha hai. Aur colour grading ki wajah se scene mein richness aa gai hai. Ye ek dreamy feel de raha hai.

Donon term mein farq yaad rakhne ke liye aap itna dhyan rakhein- ‘pahle correction phir grading’. Ham ne isi farq ko aur behtar dhang se samjhane ke liye ek video taiyaar kiya hai, jo ki niche post kiya gaya hai. Agar ye video pasand aaye to apne doston ke sath zaroor share karein.

Ye article kaisa laga? Zaroor batayein. Photography se juda hua koi sawaal poochhne ke liye niche comment box mein likhein. Aur hamara youtube channel subscribe kane ke liye yahan click karein.

वीडियो में कलर करेक्शन और कलर ग्रेडिंग

ब आप वीडियो शूट करते हैं तो उसे प्रोफ़ेशनल लुक देने के लिए कलर करेक्शन और कलर ग्रेडिंग की ज़रूरत पड़ती है। कुछ लोग इस प्रोसेस के लिए दोनों (कलर करेक्शन और कलर ग्रेडिंग) टर्म का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन सच तो ये है कि ये दोनों अलग अलग दो प्रोसेस हैं। तो आइए जानते हैं कि वीडियो/फ़िल्म/फोटोग्राफी में होने वाले कलर करेक्शन और कलर ग्रेडिंग में बुनियादी फ़र्क़ क्या है?

फोटो 1: जैसा कि फोटो क्लिक किया गया था- फ्लैट और रॉ। आप इसमें लो कॉन्ट्रास्ट और सेचुरेशन देख सकते हैं।

कलर करेक्शन उस प्रोसेस को कहते हैं जब हम किसी फ़िल्म या वीडियो के सारे शॉट्स का व्हाइट बैलेंस, कॉन्ट्रास्ट और टोन एक जैसा करते हैं ताकि कोई भी सीन अलग न दिखे। ऐसा न लगे कि ये सारे शॉट्स अलग अलग सोर्स से लेकर एक साथ इंसर्ट किए गए हों। कलर करेक्शन के द्वारा शॉर्ट्स को ज़्यादा से ज़्यादा नेचुरल/रीयल बनाने की कोशिश की जाती है। क्योंकि अलग अलग कैमरा और अलग अलग लोगों द्वारा शूट करने की वजह से पिक्चर हमेशा अलग होती है, जो कि देखने पर एक जैसी मालूम नहीं पड़ती। हम यूँ भी कह सकते हैं कि कलर करेक्शन, कलर ग्रेडिंग करने की तैयारी है।

GMAX_STUDIOS-2713-2

फोटो 2: कलर करेक्शन के बाद की फूटेज़। ख़ूबसूरत कॉन्ट्रास्ट और सेचुरेशन देखा जा सकता है।

कलर ग्रेडिंग, कलर करेक्शन के बाद किया जाता है। करल ग्रेडिंग यानी वो प्रोसेस जिसमें फूटेज़ को ख़ास टोन दिया जाता है। टोन बुनियादी रूप से वीडियो के थीम को सपोर्ट करता है। ताकि हम जो बात कहना चाह रहे हैं वो और भी असरदार हो जाए। कलर ग्रेडिंग एक क्रिएटिव प्रोसेस है, जहाँ क्रिएटर ये फ़ैसला लेता है कि फ़िल्म किस टोन में ज़्यादा ख़ूबसूरत लगेगी। इतना ही नहीं, फ़िल्म के किसी ख़ास सीन में किसी ख़ास मूड को दर्शाने के लिए ख़ास टोन का इस्तेमाल होता है। जिसमें हाईलाइट्स, मिड-टोन्स और शैडोज़ का इस्तेमाल भी किया जाता है। 

GMAX_STUDIOS-2713-3

फोटो 3: इसमें कलर ग्रेडिंग हो चुका है। फूटेज़ के इस हिस्से में प्रोटागोनिस्ट अपनी मरी हुई बीवी को याद कर रहा है। और कलर ग्रेडिंग की वजह से सीन में रिचनेस आ गई है। ये एक ड्रीमी फील दे रहा है।

दोनों टर्म में फ़र्क़ को याद रखने के लिए आप इतना ध्यान रखें- ‘पहले करेक्शन फिर ग्रेडिंग’। हमने इसी फ़र्क़ को और बेहतर ढंग से समझाने के लिए एक वीडियो तैयार किया है, जो कि नीचे पोस्ट किया गया है। अगर ये वीडियो पसंद आए तो अपने दोस्तो के साथ ज़रूर शेयर करें।

ये आर्टिकल कैसा लगा? ज़रूर बताएँ। फोटोग्राफी से जुड़ा हुआ कोई सवाल पूछने के लिए नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें। और हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

TRIPURARI

TRIPURARI

TRIPURARI is a Poet, Lyricist & Scriptwriter. He is also the Editor of GMax Studios.
TRIPURARI

Meet the Author

TRIPURARI

TRIPURARI is a Poet, Lyricist & Scriptwriter. He is also the Editor of GMax Studios.