Canon Camera Mein Custom White Blance Kaise Karein?

Custom White Blance Kya Hai?

Alag alag lighting mein shoot karne ke liye camera mein alag alag setting options hote hain. Agar aisa nahi hota, to photo par padne wali light ka asar photo ke color tone par hota. Aapne kabhi photo khinchte hue apne photograph par warm tone notice kiya hoga. Jaisa ki niche ke photograph mein nazar aa raha hai.

Kabhi kabhi aapne ye bhi notice kiya hoga ki photo ka tone bluish ya cold ho gaya hai. Jaisa ki niche ke photo mein aap dekh sakte hain. Jab ham sham ki dhoop mein ya kamre mein bulb/tube light ki roshni mein photograph khinchte hain, to photo ke warm ya cool hone ki possibility badh jati hai.

Bulb ki warm light ke karan photo warm ho jati hai aur sham ki dhoop ki wajah se photo mein bluish tone aa jata hai. Agar ham chahte hain ki photo kisi bhi tarah ki lighting se prabhavit na ho, to hamein camera ko custom white balance mode mein set karna hoga. Custom white balance mein khinchi gayi photo neutral hogi. Na warm aur na cool. Jaisa ki niche ke photo mein aap dekh sakte hain.

Padhein: Nikon Camera Mein White Balance Kaise Karein?

Canon Camera Mein Custom White Balance Kaise Set Karein?

Camera mein white balace set karne ka matlab yahi hota hai ki aap camera ko ‘actual white kya hai’ ye bataate hain aur camera baaqi sari settings khud hi kar leta hai. Is khaas setting ke baad aap jo bhi photo click karenge, wo neutral hogi. Us mein koi bhi tone nahi hoga. Camera ko ‘actual white’ batane ke liye ek aasan tariqa hai. Jis lighting mein aapko photo khinchni ho, usi lighting mein ek white paper camera ke saamne rakhein aur us paper ka photo click karein. Poore frame mein us white paper ke siwa kuchh bhi nahi hona chahiye. Iske baad aap menu mein jakar ‘custom white balance’ select karein phir OK press karein. Ab camera aapko wahi photo show karega, jo aapne abhi abhi khinchi thi. Iska matlab hai ki camera pooch raha hai— ‘kya ye photo custom white balance setting ke liye istemaal ki ja sakti hai?’ aap OK press kar confirm karein. Ab aap white balance setting mein jakar custom white balance select karein. Ise camera mein do triangle aur ek square ke nishan se darshaya jata hai, jaisa ki aap niche ke photograph mein dekh skte hain.

Ab aapka camera custom white balance mode mein set ho chukka hai. Aap jo bhi photo khinchenge wo neutral hogi. Ye sara process samajhne ke liye aap niche post kiya hua video bhi dekh sakte hain. Agar aapko video pasand aata hai to share karein aur hamara youtube channel bhi subscribe karein.

Zaroori Baatein:

  • Poore frame mein white paper ke alaawa kuchh bhi nazar nahi aana chahiye.
  • Agar aap koi wide shot shoot kar rahe hain, to apne camera ko ‘zoom in’ kar lein ya camera ko white paper ke paas le jayein.
  • White paper ko camera ke paas lekar na aayein, kyon ki paper par padne wali light subject par padne wali light se match karna chahiye.
  • Agar camera focus nahi kar pa raha ho, to manual focus pe jayein. Is baat se koi farq nahi padta ki white balance reading karte hue paper out of focus hai.
  • Agar camera NO GOOD display karta hai, to iska matlab hai ki camera white paper ki reading thik se nahi kar pa raha hai. Aise mein aap check karein ki exposure sahi hai ya nahi. Under exposed aur over exposed ki wajah se kabhi kabhi camera reading nahi le pata hai.
  • Ye achchhi tarah jaanch lein ki jab aap shutter button press karte hain to ‘PRE’ flash kar raha ho.

Ye article kaisa laga? Zaroor batyein aur koi bhi sawal poochhne ke liye niche comment box mein likhein. Ya phir kisi khaas topic par koi video dekhna chahte hain, to behichak batayein.

कस्टम व्हाइट बैलेंस क्या है?

लग अलग लाइटिंग में शूट करने के लिए कैमरा में अलग अलग सेटिंग ऑप्शंस होते हैं। अगर ऐसा नहीं होता, तो फोटो पर पड़ने वाली लाइट का असर फोटो के कलर टोन पर होता। आपने कभी फोटो खींचते हुए अपने फोटोग्राफ पर वार्म टोन नोटिस किया होगा। जैसा कि नीचे के फोटोग्राफ में नज़र आ रहा है।

GMAX-Studios-3438-4

कभी कभी आपने ये भी नोटिस किया होगा कि फोटो का टोन ब्लूइश या कोल्ड हो गया है। जैसा कि नीचे के फोटो में आप देख सकते हैं। जब हम शाम की धूप में या कमरे में बल्ब/ट्युबलाइट की रोशनी में फोटोग्राफ खींचते हैं, तो फोटो के वार्म या कूल होने की सम्भावना बढ़ जाती है।

GMAX-Studios-3438-2

पढ़ें: व्हाइट बैलेंस क्या है?

बल्ब की वार्म लाइट के कारण फोटो वार्म हो जाती है और शाम की धूप की वजह से फोटो में ब्लूइश टोन आ जाता है। अगर हम चाहते हैं कि फोटो किसी भी तरह की लाइटिंग से प्रभावित न हो, तो हमें कैमरा को कस्टम व्हाइट बैलेंस मोड में सेट करना होगा। कस्टम व्हाइट बैलेंस मोड में खींची गई फोटो न्युट्रल होगी। न वार्म और न कूल। जैसा कि नीचे के फोटो में आप देख सकते हैं।

GMAX-Studios-3438-3

पढ़ें: निकॉन कैमरा में व्हाइट बैलेंस कैसे करें?

कैनन कैमरा में कस्टम व्हाइट बैलेंस कैसे सेट करें?

कैमरा में व्हाइट बैलेंस सेट करने का मतलब यही होता है कि आप कैमरा को ‘एक्चुअल व्हाइट क्या है?’ ये बताते हैं और कैमरा बाक़ी सारी सेटिंग्स ख़ुद ही कर लेता है। इस ख़ास सेटिंग के बाद आप जो भी फोटो क्लिक करेंगे, वो न्युट्रल होगी। उसमें कोई भी टोन नहीं होगा। कैमरा को ‘एक्चुअल व्हाइट’ बताने के लिए एक आसान तरीक़ा है। जिस लाइटिंग में आपको फोटो खींचनी हो, उसी लाइटिंग में एक व्हाइट पेपर कैमरा के सामने रखें और उस पेपर का फोटो क्लिक करें। पूरे फ़्रेम में उस व्हाइट पेपर के सिवा कुछ भी नहीं होना चाहिए। इसके बाद आप मैन्यु में जाकर ‘कस्टम व्हाइट बैलेंस’ सलेक्ट करें फिर ‘ओके’ प्रेस करें। अब कैमरा आपको वही फोटो शो करेगा, जो आपने अभी-अभी खींची थी। इसका मतलब है कि कैमरा पूछ रहा है— ‘क्या ये फोटो कस्टम व्हाइट बैलेंस सेटिंग के लिए इस्तेमाल की जा सकती है?’ आप ‘ओके’ प्रेस कर कन्फ़र्म करें। अब आप व्हाइट बैलेंस सेटिंग में जाकर कस्टम व्हाइट बैलेंस सलेक्ट करें। इसे कैमरा में दो ट्रैंगल और एक स्क्वायर के निशान से दर्शाया जाता है, जैसा कि आप नीचे के फोटोग्राफ में देख सकते हैं।

Canon-white-balance-symbol

अब आपका कैमरा कस्टम व्हाइट बैलेंस मोड में सेट हो चुका है। आप जो भी फोटो खींचेंगे वो न्युट्रल होगी। ये सारा प्रोसेस समझने के लिए आप नीचे पोस्ट किया हुआ वीडियो भी देख सकते हैं। अगर आपको वीडियो पसंद आता है तो शेयर करें और हमारा यू ट्युब चैनल भी सब्सक्राइब करें।

ज़रूरी बातें:

  • पूरे फ्रेम में व्हाइट पेपर के अवाला कुछ भी नज़र नहीं आना चाहिए।
  • अगर आप कोई वाइड शॉट शूट कर रहे हैं, तो अपने कैमरा को ज़ूम इन कर लें या कैमरा को व्हाइट पेपर के पास ले जाएँ।
  • व्हाइट पेपर को कैमरा के पास लेकर न आएँ, क्योंकि पेपर पर पड़ने वाली लाइट सबजेक्ट पर पड़ने वाली लाइट से मैच करना चाहिए।
  • अगर कैमरा फ़ोकस नहीं कर पा रहा हो, तो मैन्युअल फ़ोकस पे जाएँ। इस बात से कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता कि व्हाइट बैलेंस रीडिंग करते हुए पेपर आउट ऑफ़ फ़ोकस है।
  • अगर कैमरा NO GOOD डिसप्ले करता है, तो इसका मतलब है कि कैमरा व्हाइट पेपर की रीडिंग ठीक से नहीं कर पा रहा है। ऐसे में आप चेक करें कि एक्पोज़र सही है या नहीं। अंडर एक्सपोज़र और ओवर एक्सपोज़र की वजह से भी कभी-कभी कैमरा रीडिंग नहीं ले पाता है।
  • ये अच्छी तरह जाँच लें कि जब आप शटर बटन प्रेस करते हैं तो PRE फ़्लैश कर रहा हो।

ये आर्टिकल कैसा लगा? ज़रूर बताएँ और कोई भी सवाल पूछने के लिए नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें। या फिर आप किसी ख़ास टॉपिक पर कोई वीडियो देखना चाहते हैं, तो बेहिचक बताएँ।

TRIPURARI

TRIPURARI

TRIPURARI is a Poet, Lyricist & Scriptwriter. He is also the Editor of GMax Studios.
TRIPURARI

Meet the Author

TRIPURARI

TRIPURARI is a Poet, Lyricist & Scriptwriter. He is also the Editor of GMax Studios.