Canon Aur Nikon Mein Metering Mode Ko Master Karna

Metering Modes kya hote hain?

Jab camera, subject par padne wali light ko apne aap metre karta hai taaki photo ka exposure sahi ho (na to under exposed ho, na hi over exposed ho), to use ham metering mode kahte hain. Ye thik waise hi hota hai, jaise ham apni khuli aankhon se dekhte hain. Subject par jitni light padti hai, wo camera ke lens par reflect hoti hai aur camera usi ke aadhaar par ye tay karta hai ki exposure value kya hona chahiye. Ise evaluate karne ke liye aamtaur par camera mein teen ya chaar tarah ke metering modes hote hain.

Light ko kaise maapa jaata hai?

Subject par padne wali light ko incident light kaha jaata hai aur jo light subject se reflect ho kar camera ke lens par padti hai, use reflected light kahte hain.

GMax-Studios-Metering-Mode7

Traditionally, subject par padne wali light ko waise maapa jaata hai, jaise ki niche photo mein dikhaaya gaya hai. Technically, unhein incident light meters kaha jaata hai. Lekin kuchh cameras asie bhi hote hain, jis se reflected light ko bhi maapa jaata hai.

Incident-Light-meter

An Incident Light Meter mounted on a tripod

Camera jo ki reflected light ko maapte hain. Yaani jo light subject se reflect ho kar camera ke lens par padti hai.

Incident-and-Reflected-Light

Reflected light ko maapne mein ek hi problem hai. Darasal, saare rang jis maatra mein subject par padte hain, usi maatra mein camera ke lens par reflect nahi hote.

Isi wajah se zyaadaatar camera mein ek se zyaada metering modes hote hain. Itna hi nahi, wo reflected light ki kami ko bhi maapte hain. Agar camera apni marzi se kaam kar raha hai, to har ek chiz ka exposure anupaat mein hota hai.

Camera mahaz teen haalaat mein galat reading de sakta hai-

  1. Strong whites
  2. Strong blacks
  3. Backlight

Fool-the-meter3

Alag-alag metering modes kya hain?

Aamtaur par sabhi Cameras (Canon, Nikon, Fuji, Sony) mein teen metering modes hote hain. Aur alag-alag brands ke cameras mein in modes ke naam alag-alag hote hain.

Metering-modes3

Matrix metering, Evaluative ya Multi metering mode

Jaisa ki aap niche diye gaye chart mein dekh sakte hain, alag-alag company ke cameras mein metering mode ko alag naam diya gaya hai. Ye bahut hi complex aur advance metering mode hai aur 90 fiisdi tak sahi hota hai.

Metering-modes1

Is mode mein, camera poore frame ko parakhta hai aur bhaari bharkam hisaab-kitaab ke baad aapko bataata hai ki sahi exposure kya hona chahiye. Alag-alag companies dwara banaaye gaye camera mein hisaab-kitaab karne ka tariiqa alag hota hai. Ye tariiqa ek tarah se mehfooz rakha jaata hai, taaki koi copy na kare. Zyaadaatar camera user zyaadaatar waqt yahi mode istemaal karte hain. Udaaharan ke liye, Nikon matrix mode ko is tarah se describe karta hai:

“Matrix metering evaluates multiple segments of a scene to determine the best exposure by essentially splitting the scene into sections, evaluating either 420-segments or 1,005 segments, depending on the Nikon D-SLR in use.

The 3D Color Matrix Meter II takes into account the scene’s contrast and brightness, the subject’s distance (via a D- or G-type NIKKOR lens), the color of the subject within the scene and RGB color values in every section of the scene. 3D Color Matrix Metering II also uses special exposure-evaluation algorithms, optimized for digital imaging, that detect highlight areas. The meter then accesses a database of over 30,000 actual images to determine the best exposure for the scene. Once the camera receives the scene data, its powerful microcomputer and the database work together to provide the finest automatic exposure control available.”

30,000 photos! Sochiye zara! Anumaan to yahi hai ki sabhi camera banaane waali companies complex technology ka istemaal karti hain. Niche diye gaye photo mein aap dekh sakte hain ki camera matrix, evaluative ya multi metering mode mein hai, jahan yellow overlay poore frame mein dikhaai padta hai.

Metering-viewfinder-matrix

Centre weighted metering mode

Is metering mode mein, yellow mahaz centre mein hi dikhaai padta hai. Jaisa ki aap niche diye gaye photograph mein dekh sakte hain. Kuchh camera mein aap is centre ke size ko control kar sakte hain. Is se aap apne photograph ko marzi ke mutaabiq bana sakte hain.

Metering-viewfinder-Centre

Spot metering mode

Is mode mein camera mahaz us jagah se reading lena shuru karta hai, jahaan aapne select/mark kiya hua hai. Aur uske alaawe baaqi frame ko ignore kar deta hai. Kuchh khaas situations mein spot metering mode sab se behtar result deta hai.

Star_Thriller-2-2_lrcat_-_Adobe_Photoshop_Lightroom_-_Library

Udaharan ke liye, Oopar diye gaye photograph mein actor ke chehre ko zyada asardaar dikhaana zaroori tha, kyonki ye ek sanjiida scene tha. Isiliye camera ko spot metering mode par rakh kar shoot kiya gaya.

Saath hi, ham aapko ye bhi bata dein ki kuchh camera mein aur bhi metering modes hote hain. Lekin uski wajah se sirf confusion create hota hai, aur kuchh nahi. Aapke liye ye jaan.na zaroori hai ki photography ki basics ko dhyaan mein rakhte hue agar aap camera ka istemaal karte hain, to aap ek behtar photographer ban sakte hain. Technology se zyaada khud par yaqeen karein. Aap photography karne ke liye kis company ka camera istemaal karte hain, ye baat bhi maayne rakhti hai.

Aapke dimaag mein jo tasviir hai, wahi tasviir khinchne ke liye sahi metering mode ka selection aapke liye madadgaar saabit hoga. Agar aap Nikon ka camera istemaal karte hain, to matrix metering mode se shuruaat kar sakte hain. Phir canon mein evaluative mode aur phir experiment ke liye alag-alag metering mode ka istemaal karte rahiye.

Padhein: Behtariin Photography Kaise Siikhein? Kahan se karein shuruaat?

Metering mode ko samjhaane ke liye ham ne ek video bhi banaaya hai, jise niche post kiya gaya hai. Ise dekhein aur pasand aaye to apne doston ke saath share karein. Aap hamaara you tube channel bhi subscribe kar sakte hain.

Ye article kaisa laga? Zaroor bataayein. Photography se juda hua koi bhi sawaal poochhne ke liye niche comment box mein likhein. Aap chaahein yo hamaara discussion forum bhi join kar sakte hain.

कैनन और निकॉन में मीटरिंग मोड को मास्टर करना

मीटरिंग मोड्स क्या होते हैं?

ब कैमरा, सब्जेक्ट पर पड़ने वाली लाइट को अपने आप मीटर करता है ताकि फोटो का एक्स्पोज़र सही हो (न तो अंडर एक्सपोज़्ड हो न ही ओवर एक्सपोज़्ड हो), तो उसे हम मीटरिंग मोड कहते हैं। ये ठीक वैसा ही होता है, जैसे हम अपनी खुली आँखों से देखते हैं। सब्जेक्ट पर जितनी लाइट पड़ती है, वो कैमरा के लेंस पर रिफ़लेक्ट होती है और कैमरा उसी के आधार पर ये तय करता है कि एक्सपोज़र वैल्यू क्या होना चाहिए। इसे इवैल्युएट करने के लिए आमतौर पर कैमरा में तीन या चार तरह के मीटरिंग मोड्स होते हैं।

लाइट को कैसे मापा जाता है?

ब्जेक्ट पर पड़ने वाली लाइट को इंसिडेंट लाइट कहा जाता है और जो लाइट सब्जेक्ट से रिफ़लेक्ट होकर कैमरा के लेंस पर पड़ती है, उसे रिफ़लेक्टेड लाइट कहते हैं।

GMax-Studios-Metering-Mode7

ट्रेडिशनली, सबजेक्ट पर पड़ने वाली लाइट को वैसे मापा जाता है, जैसे कि नीचे फोटो में दिखाया गया है। टेक्निकली, उन्हें इंसिडेंट लाइट मीटर्स कहा जाता है। लेकिन कुछ कैमरे ऐसे भी होते हैं, जिस से रिफ़लेक्टेड लाइट को भी मापा जा सकता है।

Incident-Light-meter

An Incident Light Meter mounted on a tripod

कैमरा जो कि रिफ़लेक्टेड लाइट को मापते हैं। यानि जो लाइट सबजेक्ट से रिफ़लेक्ट हो कर कैमरा के लेंस पर पड़ती है।

Incident-and-Reflected-Light

रिफ़लेक्टेड लाइट को मापने में एक ही प्रॉब्लेम है। दरअसल, सारे रंग जिस मात्रा में सबजेक्ट पर पड़ते हैं, उसी मात्रा में कैमरा के लेंस पर रिफ़लेक्ट नहीं होते।

इसी वजह से ज़्यादातर कैमरा में एक से ज़्यादा मीटरिंग मोड्स होते हैं। इतना ही नहीं, वो रिफ़लेक्टेड लाइट की कमी को भी मापते हैं। अगर कैमरा अपनी मर्ज़ी से काम कर रहा है, तो हर एक चीज़ का एक्पोज़र अनुपात में होता है।

कैमरा महज़ तीन हालात में ग़लत रीडिंग दे सकता है-

  1. स्ट्रॉन्ग व्हाइट्स
  2. स्ट्रॉन्ग ब्लैक्स
  3. बैकलाइट

Fool-the-meter3

अलग-अलग मीटरिंग मोड्स क्या हैं?

मतौर पर सभी कैमरों (कैनन, निकॉन, फ़ूजी, सोनी) में तीन मीटरिंग मोड्स होते हैं। और अलग-अलग ब्रांड्स के कैमरों में इन मोड्स के नाम अलग-अलग होते हैं।

Metering-modes3

मैट्रिक्स मीटरिंग, इवैलुएटिव या मल्टी मीटरिंग मोड

जैसा कि आप नीचे दिए गए चार्ट में देख सकते हैं, अलग अलग कम्पनी के कैमरों में मीटरिंग मोड को अलग नाम दिया गया है। ये बहुत ही कॉप्लेक्स और एडवांस मीटरिंग मोड है और 90 फ़ीसदी तक सही होता है।

Metering-modes1

इस मोड में, कैमरा पूरे फ़्रेम को परखता है और भारी भरकम हिसाब-किताब के बाद आपको बताता है कि सही एक्सपोज़र क्या होना चाहिए। अलग-अलग कम्पनियों द्वारा बनाए गए कैमरे में हिसाब-किताब करने तरीक़ा अलग होता है। ये तरीक़ा एक तरह से महफ़ूज़ रखा जाता है, ताकि कोई कॉपी न करे। ज़्यादातर कैमरा यूज़र ज़्यादातर वक़्त यही मोड इस्तेमाल करते हैं। उदाहरण के लिए, निकॉन मैट्रिक्स मोड को इस तरह से डिस्क्राइब करता है:

“Matrix metering evaluates multiple segments of a scene to determine the best exposure by essentially splitting the scene into sections, evaluating either 420-segments or 1,005 segments, depending on the Nikon D-SLR in use.

The 3D Color Matrix Meter II takes into account the scene’s contrast and brightness, the subject’s distance (via a D- or G-type NIKKOR lens), the color of the subject within the scene and RGB color values in every section of the scene. 3D Color Matrix Metering II also uses special exposure-evaluation algorithms, optimized for digital imaging, that detect highlight areas. The meter then accesses a database of over 30,000 actual images to determine the best exposure for the scene. Once the camera receives the scene data, its powerful microcomputer and the database work together to provide the finest automatic exposure control available.”

30,000 तस्वीरें! सोचिए ज़राअनुमान तो यही है कि सभी कैमरा बनाने वाली कम्पनियाँ कॉम्प्लेक्स टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करती हैं। नीचे दिए गए फोटो में आप देख सकते हैं कि कैमरा मैट्रिक्स, इवैलुएटिव या मल्टी मीटरिंग मोड में है, जहाँ येल्लो पूरे फ़्रेम में दिखाई पड़ता है।

Metering-viewfinder-matrix

सेंटर वेटेड मीटरिंग मोड

स मीटरिंग मोड में, येल्लो महज़ सेंटर में ही दिखाई पड़ता है। जैसा कि आप नीचे दिए गए फोटोग्राफ में देख सकते हैं। कुछ कैमरा में आप इस सेंटर के साइज़ को कंट्रोल कर सकते हैं। इससे आप अपने फोटोग्राफ को मर्ज़ी के मुताबिक़ बना सकते हैं।

Metering-viewfinder-Centre

स्पॉट मीटरिंग मोड

स मोड में कैमरा महज़ उस जगह से रीडिंग लेना शुरू करता है, जहाँ आपने सलेक्ट/मार्क किया हुआ है। और उसके अलावे बाक़ी फ़्रेम को इग़नोर कर देता है। कुछ ख़ास सिचुएशन्स में स्पॉट मीटरिंग मोड सबसे बेहतर रीज़ल्ट देता है।

Star_Thriller-2-2_lrcat_-_Adobe_Photoshop_Lightroom_-_Library

उदाहरण के लिए, ऊपर दिए गए फोटोग्राफ में ऐक्टर के चेहरे को ज़्यादा असरदार दिखाना ज़रूरी था, क्योंकि ये एक संजीदा सीन था। इसीलिए कैमरा को स्पॉट मीटरिंग मोड पर रख कर शूट किया गया।

साथ ही, हम आपको ये भी बता दें कि कुछ कैमरा में और भी मीटरिंग मोड होते हैं। लेकिन उसकी वजह से सिर्फ़ कंफ़्यूज़न क्रिएट होता है, और कुछ नहीं। आपके लिए ये जानना ज़रूरी है कि फोटोग्राफी की बेसिक्स को ध्यान में रखते हुए अगर आप कैमरा का इस्तेमाल करते हैं, तो आप एक बेहतर फोटोग्राफर बन सकते हैं। टेक्नोलॉजी से ज़्यादा ख़ुद पर यक़ीन करें। आप फोटोग्राफी करने के लिए किस कम्पनी का कैमरा इस्तेमाल करते हैं, ये बात भी मायने रखती है।

आपके दिमाग़ में जो तस्वीर है, वही तस्वीर खींचने के लिए सही मीटरिंग मोड का चुनाव आपके लिए मददगार साबित होगा। अगर आप निकॉन का कैमरा इस्तेमाल करते हैं, तो मैट्रिक्स मीटरिंग मोड से शुरुआत कर सकते हैं। फिर कैनन में इवैलुएटिव मोड और फिर एक्सपेरिमेंट के लिए अलग-अलग मीटरिंग मोड का इस्तेमाल करते रहिए।

पढ़ें: बेहतरीन फोटोग्राफी कैसे सीखें? कहाँ से करें शुरुआत? 

मीटरिंग मोड को समझाने के लिए हमने एक वीडियो भी बनाया है, जिसे नीचे पोस्ट किया गया है। इसे देखें और पसंद आए तो अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें। आप हमारा यू-ट्यूब चैनल भी सब्सक्राइब कर सकते हैं।

ये आर्टिकल कैसा लगा? ज़रूर बताएँ। फोटोग्राफी से जुड़ा हुआ कोई भी सवाल पूछने के लिए नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें। आप चाहें तो हमारा डिस्कशन फॉरम भी ज्वाइन कर सकते हैं।

TRIPURARI

TRIPURARI

TRIPURARI is a Poet, Lyricist & Scriptwriter. He is also the Editor of GMax Studios.
TRIPURARI

Meet the Author

TRIPURARI

TRIPURARI is a Poet, Lyricist & Scriptwriter. He is also the Editor of GMax Studios.